4 मार्च का इतिहास:-

  • 1856 – अंग्रेज़ी भाषा की सर्वश्रेष्ठ प्रतिभासम्पन्न कवयित्री तोरु दत्त का जन्म।
  • 1881 – प्राक् छायावादी युग के महत्वपूर्ण कवि रामनरेश त्रिपाठी का जन्म।
  • 1899 – मध्य प्रदेश स्थित विजयराघवगढ़ के राजकुमार और प्रसिद्ध साहित्यकार ठाकुर जगमोहन सिंह का निधन।
  • 1921 – असहयोग आंदोलन में ननकाना के एक गुरुद्वारे में शान्तिपूर्ण ढंग से सभा का संचालन किया जा रहा था, वहां सैनिकों के द्वारा गोली चलाने के कारण 70 लोगों की जानें गई।
  • 1922 – प्रसिद्ध गुजराती रंगमंच और फिल्म अभिनेत्री दीना पाठक का जन्म।
  • 1928 – प्रसिद्ध भारतीय अधिवक्ता और राजनेता सत्येन्द्र प्रसन्न सिन्हा का निधन।
  • 1931 – ब्रिटिश वायसराय, गवरनोरजनरल एडवर्ड फ्रेदेरिक्क लिन्द्ले वुड और महात्मा गाँधी में भेंट राजनीतिक कैदियों की रिहाई और नमक के सर्वजन उपयोग की छूट को लेकर मंत्रणा और इकरारनामे की घोषणा।
  • 1939 – भारत के प्रसिद्ध क्रांतिकारी और गदर पार्टी के संस्थापक लाला हरदयाल का निधन।
  • 1980 – भारतीय टेनिस खिलाड़ी रोहन बोपन्ना का जन्म।
  • 1980 – भारतीय फ़िल्म अभिनेत्री कामालिनी मुखर्जी का जन्म।
  • 1998 – भारत के प्रकाश शाह सं.रा. महासचिव द्वारा बगदाद में विशेष प्रतिनिधि नियुक्त।
  • 1999 – संयुक्त राष्ट्र के कर्मचारियों को अपनी परित्यक्ता पतनी एवं बच्चों को जीवन निर्वाह भत्ता देने की घोषणा।
  • 2001 – तालिबान ने मूर्तियों को खरीदने की ईरान की पेशकश ठुकराई।
  • 2002 – राष्ट्रमंडल में जिम्बाब्वे के ख़िलाफ़ प्रस्ताव नामंजूर।
  • 2003 – नाइजीरिया के कब्बी राज्य में एक नौका के नाइजर नदी में डूब जाने से 80 व्यक्ति मारे गए।
  • 2008 – हिन्दी के प्रसिद्ध विद्वान् डॉ. मदन लाल मधु को प्रतिष्ठित सम्मान मीडिया यूनियन ने स्वर्णाक्षर पुरस्कार से सम्मानित किया।
  • 2008 – संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने ईरान के खिलाफ नई पाबंदियाँ लागू की।
  • 2009 – राजस्थान के पोखरण में ब्रह्मोस मिसाइल के नए संस्करण का परीक्षण किया गया।