गुड फ्राइडे से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

108

“गुड फ्राइडे” ईसाई धर्म का त्यौहार है। गुड फ्राइडे के दिन ईसा मसीह को सूली पर चढ़ा दिया गया था। इस दिन को ‘शोक दिवस’ के रूप में भी मनाया जाता है। गुड फ्राइडे को होली फ्राइडे, ब्लैक फ्राइडे या ग्रेट फ्राइडे भी कहते हैंl तो आइये जानते है गुड फ्राइडे से जुड़े कुछ रोचक तथ्य-

  • ईसाई धर्म ग्रंथों के अनुसार जिस दिन ईसा मसीह ने प्राण त्यागे थे उस दिन शुक्रवार था और इसी दिन की याद में गुड फ्राइडे मनाया जाता है।
  • प्रभु यीशु ने मानव सेवा प्रारंभ करने से पूर्व 40 दिन व्रत किया था और इसी वजह से 40 दिन पहले से उपवास की परंपरा शुरू हो जाती है। इस व्रत में शाकाहारी भोजन खाया जाता है। इस दिन चर्च और घरों से सजावट की वस्तुएं हटा ली जाती हैं या उन्हें कपडे़ से ढक दिया जाता है।
  • गुड फ्राइडे के दिन लोग भगवान ईसा मसीह के प्रतीक क्रॉस को चूमकर भगवान को याद करते हैं।
  • गुड फ्राइडे की प्रार्थना दोपहर 12 से 3 के मध्य की जाती है ऐसा इसलिए किया जाता है क्योंकि इसी दौरान यीशु को क्रॉस पर चढ़ाया गया था।
  • गुड फ्राइडे के तीसरे दिन यानी उसके अगले संडे को ईसा मसीह दोबारा जीवित हो गए थे, इसे ईस्टर संडे कहते है।
  • ईस्टर की आराधना उषाकाल में महिलाओं द्वारा की जाती है क्योंकि इसी वक्त यीशु का पुनरुत्थान हुआ था और उन्हें सबसे पहले मरियम मदीलिनी नामक एक महिला ने देख अन्य महिलाओं को इस बारे में बताया था। इसे सनराइज सर्विस कहते हैं।
  • गुड फ्राइडे के दिन ईसा के अंतिम 7 वाक्यों की विशेष व्याख्या की जाती है, जो क्षमा, मेल-मिलाप, सहायता और त्याग पर केंद्रित होती है।
  • गुड फ्राइडे को साल 2012 में क्‍यूबा में राष्‍ट्रीय अवकाश घोषित किया गया था। क्‍यूबा की सरकार ने वर्ष 1960 के बाद पहली बार इस तरह का कोई अवकाश घोषित किया था।
  • गुड फ्राइडे के दिन दुनिया भर के ईसाई चर्च में सामाजिक कार्यो को बढ़ावा देने के लिए चंदा या दान दिया जाता हैं।
  • बहुत से अंग्रेजी देशों, जैसे सिंगापुर में अधिकाँश दुकाने बंद कर दी जाती हैं और टेलिविज़न, रेडियो प्रसारण से कुछ विज्ञापनों को हटा दिया जाता हैं। वहीं ब्रिटेन में गुड फ्राइडे के दिन कोई घुड़दौड़ नहीं होती।
  • गुड फ्राइडे के दिन ईसाई लोग चर्च में लकड़ी के खटखटे से आवाज करते है। चर्च में इस दिन घंटा नहीं बजाया जाता।
  • गुड फ्राइडे को गुड इसलिए कहा जाता है क्योंकि ईसा मसीह ने अपनी मृत्यु के बाद पुन: जीवन धारण किया था और यह संदेश दिया कि हे मानव मैं सदा तुम्हारे साथ हूं और तुम्हारी भलाई करना मेरा उद्देश्य है। यहां गुड का मतलब हॉली (अंग्रेजी शब्द) यानी पवित्र से है।