भारत के इतिहास के 10 सबसे बड़े सांप्रदायिक दंगे

भारत में साम्प्रदायिक दंगों का इतिहास बहुत पुराना है. भारत में साम्प्रदायिक दंगों की शुरुआत संभवत: कज्हुहुमालाई(Kazhuhumalai) और सिवाकासी(Sivakasi) में सन 1895 और 1899 होने वाले दंगों से शुरू हुई. भारत विभाजन से पहले कोलकाता में सन 1946 में जातिगत हिंसा हुई जिसको “सीधी कार्रवाई दिवस(Direct Action Day)” से भी जाना जाता है. इसके अलावा नागपुर के दंगे (सन 1927), विभाजन के दंगे (सन 1947), रामनाद दंगे (सन 1957) और 2006 में महाराष्ट्र में घटित दलित दंगे शामिल हैं. यह है भारत में अब तक हुए सबसे त्रासदीपूर्ण जातिगत दंगों की सूची जिन्होंने भारत की एकता और सांप्रदायिक सदभाव को बुरी तरह प्रभावित किया.

2सिख-विरोधी दंगे,1984

इन दंगों की शुरुआत तब हुई थी जब इंदिरा गांधी की 31 अक्टूबर 1984 उनके सिख अंगरक्षकों ने हत्या कर दी. इसके अगले ही दिन इन दंगों की शुरुआत हुई और यह दंगे कई दिनों तक चले जिसमें 800 से ज्यादा सिखों की हत्या की गयी. भारत की राजधानी दिल्ली और यमुना नदी के आसपास के इलाके इन दंगों से बुरी तरह से प्रभावित हुए थे.

thehindu

यह भी पढ़ें: भारत की शीर्ष 10 प्रभावशाली महिलाएं