भारत में एक ऐसी जगह जहाँ एक महिला की होती है परिवार के सभी भाईयों से शादी

भारत एक प्राचीन, सबसे जादुई संस्कृतियों और धर्मों का देश है. दुनिया के हर हिस्से में अलग-अलग मान्यताएं होती हैं. लेकिन कुछ तो इतनी अजीब होती हैं जिन पर विश्वास करना बहुत ही मुश्किल हो जाता है. आज हम आपको भारत की एक ऐसी ही परंपरा के बारे में बता रहे हैं जिनके बारे में जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे.

जी हाँ हम बात कर रहे हैं हिमाचल प्रदेश के किन्नौर क्षेत्र की जिसमे महिला का विवाह एक ही परिवार के सभी सगे भाईयों से एक साथ किया जाता है. यहाँ के निवासी इस प्रथा का सम्बन्ध पांडवों के अज्ञातवास से जोड़ते है. तो चलिए अब आपको इस खास परंपरा के बारे में बताते हैं…

भारत में शादी कई प्रथाओं से मनाई जाती हैं. हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में आज भी बहुपति विवाह (Polytheistic marriage) किए जाते हैं. यहां परिवार में कितने भी भाई होंगे वह परिवार की सभी महिलाओं के पति होते हैं. घर की एक ही छत के नीचे रहने वाले परिवार के सभी भाई (भाई 2 से लेकर 10 तक भी हो सकते है) एक ही युवती से परंपरा के अनुसार शादी करते हैं और वैवाहिक जीवन जीते हैं. अगर किसी महिला के पति या परिवार के किसी पुरुष की मौत भी हो जाए तो भी महिला को दुख नहीं मनाने दिया जाता है.

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में शादी भी अजीबोगरीब ढंग से की जाती है. जब किसी लड़की की शादी होती है तो परिवार वाले, लडके और उसके परिवार के बारे में पूरी जानकारी ले लेते हैं. विवाह में सभी भाई दूल्हे की तरह सज कर आते हैं. शादी के बाद निभाई जाने वाली कई परंपराएं और बाद का वैवाहिक जीवन एक टोपी पर निर्भर करता है. (हो गए न आप भी परेशान, की टोपी का कैसे निर्भर करता है. टोपी का रहस्य जानने के लिये नीचे पढ़ें….)

जैसे कि किसी परिवार में पांच भाई है और सभी की शादी एक ही महिला से हुई है. अगर कोई भाई अपनी पत्नी के साथ है तो वह कमरे के दरवाजे के बाहर अपनी टोपी रख देता है. भाइयों में मान मर्यादा इतनी रहती है कि जब तक टोपी दरवाजे पर रखी है कोई दूसरा भाई उस कमरे पर नहीं जाता.

यहाँ के लोगों का मानना हैं की यह रीति रिवाज व प्रथा महाभारत से चली आ रही है क्योंकि अज्ञातवास के दौरान पांचों पांडवों ने इसी जगह पर समय बिताया था. यहां की एक और दिलचस्प बात यह है कि यहां घर की मुखिया पुरुष नहीं बल्कि महिलाएं होती हैं. महिलाओं का काम होता है पति व संतानों की सही ढंग से देखभाल करना.

घर की सबसे बड़ी महिला को गोयने कहा जाता है. इसके सबसे बड़े पति को गोर्तेस, कहते हैं यानी घर का स्वामी. यहां खाने के साथ शराब पीना बहुत जरूरी है. अगर पुरुषों व महिलाओं का मन दुखी होता है तो पुरुष शराब और तम्बाकू का सेवन करते हैं वहीं महिलाएं गीत गाती हैं.

Comments