क्या सचमुच मछलियों की बारिश होती है??

क्या सचमुच मछलियों की बारिश होती है?? क्या आसमान से घड़ियाल गिर सकते हैं? कुछ ऐसे ही सवाल आपके मन में होगें तभी तो आप इस पेज पर हैं. 🙂

जी हाँ, कई बार ऐसे कई उदाहरण सामने आये हैं जिनमें मछलियों की बारिश हुई यानि मछलियों को आसमान से नीचे गिरते हुए देखा गया. जो मछली आकाश से नीचे गिरती है यह वही मछली होती है जो पानी में पाई जाती है. तो ऐसा क्या होता है कि पानी की मछली आकाश में पहुँच जाती है?

कुछ वैज्ञानिकों और शौधकर्तायों ने इस घटना पर विस्तृत अध्ययन किया गया है. आम सहमति यही है कि यह सब जलस्तम्भ या बवंडर यानि Tornado के कारण होता है. जब बवंडर समंदर के धरातल को पार करते हैं तो ऐसी अवस्था में ये पानी के तूफ़ान का रूप ले लेते हैं. तब यह पानी का तूफ़ान मछलियों के साथ अन्य जीवों यहाँ तक कि सांपों, केकड़ों, कछुओं व घडियालों को भी अपने अंदर समा लेता है. मछलियां और अन्य जीव बवंडर के साथ उड़ने लगती हैं और तब तक उड़ती रहतीं हैं जब तक हवा की रफ्तार कम नहीं हो जाती. और जब हवा की रफ़्तार कुछ कम हो जाती है तो ये जमीन पर गिरती हैं तो ऐसा लगता है जैसे मछलियो की बारिश हो रही है.

can-it-really-rain-fish

nairaland

बिल इवांस की पुस्तक के अनुसार पानी के जीव एक साल में चालीस बार आसमान से नीचे गिरते हैं. बहुत सारे जीव आसमान से नीचे गिरते हुए देखे गए हैं. इनमें सांप, कीड़े, घोंघे और केंकड़े हैं. यहाँ तक घडियाल जैसे आकार के जीवों को भी आकाश से नीचे गिरते हुए देखा गया है, हालांकि यह बहुत कम होता है. ये जीव तब तक बादलों में ही रहते हैं क्योंकि वायु का प्रवाह बहुत ज्यादा होने के कारन यह आकाश में उड़ते रहते हैं. यह  तब तक नहीं नीचे गिरते जब तक हवा की गति धीमे नहीं हो जाती.

अगर आपको मछलियों या मेंढकों की बारिश होती दिखे तो घबराना नहीं, बस तुरंत अपने घर की खिड़कियाँ को बंद कर लेना. 😉

Comments