कुछ सालों में इंसान को पीछे छोड़ देगी आर्टिफिशियल इंटेलिजन्स

आर्टिफिशियल इंटेलिजन्स मानव बुद्धि का एक नमूना है जिसकी प्रक्रियाए मशीन के ज़रिये होती है जैसे कम्प्यूटर्स सिस्टम्स।

मनुष्य की तुलना मे इसके ज़रिये काम जल्दी और आसानी किए जा सकते है। आर्टिफिशियल इंटेलिजन्स दो प्रकार से जानी जाती है:

कमज़ोर आर्टिफिशियल इंटेलिजन्स और संकीर्ण आर्टिफिशियल इंटेलिजन्स.

कमज़ोर आर्टिफिशियल इंटेलिजन्स एक ऐसा सिस्टम है जिसे कोई एक प्रकार का काम करने के लिए बनाया गया है.

जैसे कि, वर्चुअल अस्सिटेंट फ़ोन्स में मौजूद एप में इसे कमांड दी जाती है जैसे कि, show Good mba colleges in karnataka तो आपको सारे TOP MBA कॉलेज की लिस्ट मिल जाती है।

स्ट्रॉन्ग आर्टिफिशियल इंटेलिजन्स, इसे आर्टिफिशियल इंटेलिजन्स जनरल के नाम से भी जाना जाता है।

उदाहरण के लिए ऑटोमेशन जिसका मतलब है एक प्रोसेस या सिस्टम जो खुद से ही काम करे। ये वहाँ काम आता है जब हमें ज्यादा मात्रा में वही काम बार बार करना होता है। जैसे बड़ी-बड़ी फैक्ट्रीज में ज्यादा क्वांटिटी में चीजों का बनना और इसका प्रभाव लोगों की जॉब्स पर भी पड़ता है। क्योंकि कई सारे लोगों का काम अब बस एक मशीन के ज़रिये किये जा सकता है। इससे कई लोगो को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ सकता है।

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का उपयोग मशीन लर्निंग मे भी है। मशीन लर्निंग एक साइंस है जिसमे हम कंप्यूटर को बिना प्रोग्रामिंग करे काम करने देते है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजन्स का मौसम बदलाव मे सहायता देता है।  इसके ज़रिये डाटा जांच कर आने वाले मौसम का अनुमान लगाया जा सकता है। जिसके ज़रिये लोग बदलते हुए मौसम से बचने की तैयारी कर सके।

आर्टिफिशियल इंटेलिजन्सका  का एक उदहारण रोबोट्स है जो की ऐसे काम करने की भी क्षमता रखते है जो इंसान के लिए जोखिम भरा होता है और उसे इंसान के लिए करना मुश्किल होता है. लेकिन रोबोट की मदद से इसे आसानी से किया जा सकता है।

Comments