42 रोचक मनोवैज्ञानिक तथ्य जिन्हें पढ़ कर आप अपने आसपास के लोगों को ज्यादा समझ पाओगे

मनोवैज्ञानिक रोचक तथ्य : हम में से सभी चाहते हैं कि कुछ ऐसे तरीके हैं जिनको अपनाकर, हम सामने वाले के दिल और दिमाग में क्या चल रहा है, यह जान सकें. इंसानी व्यवहार हमेशा से ही शोध-कर्ताओं के लिए सबसे रोचक विषयों में से एक रहा है. हम यहाँ कुछ ऐसे ही इंसानों से सम्बंधित मनोवैज्ञानिक रोचक तथ्य प्रस्तुत कर रहे हैं जिन्हें जान कर आप सामने वाले के बारे में काफी कुछ जान सकते हो.

  1. जितनी चिंता(concern) आजकल के बच्चे दिखाते हैं उतनी चिंता 1950 में दिमागी मरीज़ दिखाते थे.
  2. अगर किसी पुरुष को किसी की बात से तकलीफ पहुंची हो, तो वो उस बात को भूल जाते हैं, लेकिन माफ़ नहीं करते। लेकिन अगर एक महिला को किसी की बात से तकलीफ पहुंची हो, तो वो माफ़ कर देती हैं, लेकिन भूलती नहीं.
  3. एक इंसान के लिए सबसे मुश्किल कार्यों में से एक है स्वयं को यह समझाना कि “अब मुझे किसी की परवाह नही है”.
  4. हम जितना ज्यादा दूसरों पर खर्च करते हैं हम उतने ज्यादा खुश रहते हैं.
  5. यदि आप किसी को अपने लक्ष्य यानी GOALS बता देते हैं तो आपके सफ़ल होने की संभावना कम हो जाती है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आप प्रेरणा खो देते हैं, यानी मोटिवेशन लूज कर देते हैं.
  6. 90% लोग मैसेज़ या पत्र में वह चीज़े लिखते हैं जिन्हें वह कह नही सकते.
  7. आपका पसंदीदा गाना आपको इसलिए पसंद हैं क्योंकि वह आपकी ज़िंदगी की असल घटना के साथ जुड़ा होता है.
  8. 18 से 33 साल की उम्र तक व्यक्ति सबसे ज्यादा तनाव में रहता है.
  9. किसी भी व्यक्ति को प्यार में पड़ने के लिए सिर्फ़ 4 मिनट काफी होते हैं.
  10. यदि आप अपनी भावनाओं को छिपाओगे तो दूसरे व्यक्ति के लिए आपको समझना उतना ही मुश्किल होगा. हालाँकि ऐसा करने से आप दूसरे की नज़रों में अपनी विश्वासनीयता खो सकते हैं.

  11. कॉमेडियन और मजाकिया लोग दूसरो के मुकाबले ज्यादा उदास रहते हैं.
  12. आपका दिमाग आधे से ज्यादा समय केवल यादें दोहराता रहता है.
  13. दिल टूटने से मौत हो सकती है. इसे “Stress Cardiomyopathy” कहते हैं.
  14. जब कोई हमें नजरंदाज यानि इग्नोर करता है तो वही रसायन यानि कैमिकल रिलीज होता हैं जो हमें चोट लगने पर होता हैं.
  15. स्मार्ट यानि तीव्र-बुद्धि लोग खुद को कम आंकते हैं जबकि दूसरे लोग उन्हें प्रतिभाशाली और श्रेष्ठ समझते हैं.
  16. यदि आप पुराने समय को याद करते हैं तो उससे ज्यादा यह याद आता है कि हमने ऐसा आखिरी बार कब याद किया था.
  17. जब किसी से प्यार होता है तो हमारा शरीर इसमें कुछ खास नहीं करता, बस दिमाग एक रसायन(chemical) रिलिज़ करता है जिससे हमें अलग-सा अच्छा अनुभव होता है.
  18. जब कोई कहता है कि मुझे आपसे एक प्रश्न पूछना है हमें तो हाल ही में किए गए सारे बुरे काम सैकेंडों में याद आ जाते हैं.
  19. जो लोग ज्यादा हँसते हैं उनमें दर्द सहन करने की क्षमता दूसरों से ज्यादा होती है.
  20. हम जो सोचते हैं उसका 90% हिस्सा सीधा हमारे मूड पर असर करता है. एक गलत विचार सारे मूड को खराब कर सकता है.

  21. लोग आपके बारे में अच्छा सुनने पर कम यकीन करते हैं लेकिन बुरा सुनने पर तुरंत यकीन कर लेते हैं. ऐसा संभवत: “सर्वाइवल इंस्टिक्ट” के कारण होता है, जो जानवरों में ज्यादा पाई जाती है.
  22. किसी के साथ ज्यादा समय बिताने से आप उसकी आदतें अपनानें लगते हैं इसलिए सोच-समझकर दोस्त बनाएं.
  23. 90% लोगो का दिमाग ये सोचता हैं कि कुछ पल के लिए समय पीछे चला जाए.
  24. अगर कोई नाख़ून चबाता हैं तो इसका मतलब है वह बहुत परेशान है.
  25. फोन खो जाने पर होने वाली चिंता उस चिंता के समान होती हैं, जब व्यक्ति अपनी मौत के करीब होता है.
  26. यदि कोई ज्यादा तकियें लेकर सोता हैं तो इसका मतलब वह खुद को अकेला महसूस करता है.
  27. हम दिन की बज़ाय रात को आसानी से रो सकते है.
  28. यदि आप किसी के बारे में जागते हुए भी सपने देखते हैं तो इसका मतलब हैं आप उसे मिस कर रहे है.
  29. कोई बात छुपा रहा है या नही ये पता करने की भी एक ट्रिक हैं.. जिस चीज़ को वो छुपा रहा हैं उसी के बारे में बात करना शुरू कर दें ऐसा करने पर वह हड़बड़ा जाता हैं. आंखें चुराने लगता हैं और इसी घबराहट में या तो चुप रहता हैं या फिर बोलता भी हैं तो सामान्य से तेज़ गति से.
  30. अगर एक व्यक्ति कम बोलता हैं, लेकिन तेजी से बोलता हैं- इसका मतलब हैं कि वह एक गोपनीय व्यक्तित्व वाला शख्स हैं, जो ज़्यादातर बातें अपने तक ही रखता हैं.

  31. अगर कोई छोटी-छोटी बात पर चिडचिडा या गुस्सा हो जाता है, इसका मतलब उसे आपके साथ और प्यार की जरूरत है.
  32. अगर कोई छोटी-छोटी बात पर रोता है, इसका मतलब हैं कि वह नरम दिल स्वभाव का है.
  33. जो लोग अपने प्रियजनों के सामने फ़ोन की स्क्रीन को नीचे की तरफ रखते हैं, तो उनके मन में खोट हो सकता है.
  34. अगर एक व्यक्ति बहुत सोता हैं तो इसका मतलब हैं कि वह अंदर ही अंदर घुट रहा हैं और किसी बात से दुःखी है.
  35. अगर कोई रो नहीं सकता, इसका मतल़ब कि वो इंसान भावनात्मक रूप से कमज़ोर है. रोना एक व्यक्ति को कमज़ोर नहीं, बल्कि भावनात्मक रूप से मज़बूत बनाता हैं.
  36. अगर कोई असामान्य तरीके से खाना खाता हैं इसका मतलब हैं कि वह किसी बात को लेकर बहुत चिंतित हैं.
  37. आपका दिमाग लोगो की बोरिंग बातो को री-राईट कर उन्हें मज़ेदार बना सकता हैं.
  38. आप जिस तरह के गाने सुनते हैं उसी तरह से आप दुनिया को देखने लग जाते हैं.
  39. आप बेशक यह आर्टिकल ऑनलाइन पढ़ रहें हैं लेकिन आपकी आंखे खुश नही है. मोबाइल की स्क्रीन से बहुत आसान होता हैं किताब में पढ़ना.
  40. सोने से पहले आप जिस आदमी के बारे में सोचते हैं वही आपकी खुशी और दर्द का कारण है.
  41. हम किसी भी चीज़ को असलियत में करते समय इतने खुश नही होते जितनें बादें उन्हें याद करते समय होते है.
  42. खुशी का पहला आंसू दाहिनी आँख से और दुख का पहला आंसू बाईं आँख से निकलता हैं.

Gazabhindi से साभार

Comments