पाकिस्तानी पिता ने बेटे के ऑपरेशन के बाद भारत के बारे में क्या कहा?

पाकिस्तान के 4 महीने के रोहान के दिल में छेद था। जब रोहान के माता-पिता को पता चला कि उसका इलाज पाकिस्तान में हो पाना नामुमकिन है तब उन्होंने भारत में इलाज कराने का प्लान बनाया। लेकिन भारत में मेडिकल वीजा पाना आसान नहीं था।

पिता कंवल सिद्दीकी ने इसके लिए सोशल मीडिया पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मदद मांगी और उनकी फरियाद तुरंत सुन ली गई। भारतीय विदेश मंत्री ने दो देशों के विवादों को दूर रखकर मानवीय धर्म को प्राथमिकता दी,जो खुद में एक मिसाल है।

इसके बाद, जून 2017 में रोहान को नोएडा के जेपी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। डॉ. आशुतोष मारवाह ने बच्चे की बीमारी के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा उसके दिल में छेद था और ह्रदय की बाईं तरफ रहने वाली अरोटा दाईं तरफ से आ रही थी। अरोटा और पल्मोनरी आर्टरीज को उन स्थान से हटाकर सही स्थान पर जोड़ा गया। 12 जून को हुई इस सर्जरी में करीब 5 घंटे का समय लगा।

डाक्टरों का कहना था कि रोहान का इलाज इतना आसान नहीं था. यह बीमारी 100 में से एक बच्चे को होती है. पाकिस्तानी पिता ने हमारे अस्पताल को चुना तो हमारी भी जिम्मेवारी थी कि हम अपना सर्वश्रेष्ठ देते. किस्मत से हम ऐसा करने में कामयाब रहे. टीम ने पूरी मेहनत से इलाज किया।

जेपी हॉस्पिटल के शिशु ह्रदय रोग विभाग के निदेशक और वरिष्ठ सर्जन डॉ. राजेश शर्मा, डॉ. आशुतोष मारवाह और उनकी टीम ने यह ऑपरेशन किया। आज रोहान पूरी तरह से दुरुस्त है और वह पाकिस्तान वापिस लौट रहा है।

भारत में बेटे के सफल इलाज के बाद रोहान के पिता कंवल रो पड़े और भारत का तहे दिल से शुक्रिया किया. अंत में उन्होंने कहा कि, दुश्मनी भुलाकर मानवता की मदद करना, यह सिर्फ भारत ही कर सकता है

Comments