ऐसे दस कारण जिसकी वजह से भारत दुनिया में सुपर पॉवर नहीं बन सकता

10 कारण जिसकी वजह से भारत कभी सुपर पॉवर देश नहीं बन पायेगा.
क्या भारत अमेरिका, रूस, चीन की तरह एक महाशक्ति(Super Power) देश बन पायेगा? इस सवाल का जवाब शायद हर भारतीय जानना चाहेगा. वर्तमान में भारत जिस तरह की समस्याओं का सामना कर रहा है उस से तो लगता है कि भारत का महाशक्ति बनने का सपना सिर्फ सपना ही रह जायेगा.

1धार्मिक उग्रवाद

भारत में धार्मिक उग्रवाद की समस्या बहुत लंबे समय से है जो भारत की तरक्की के रास्ते को बहुत मुश्किल बना देती है. भारत के इतिहास में ऐसी कई घटनाएँ हो चुकी हैं जिनके पीछे धार्मिक उग्रवाद मुख्य कारण था.

2वामपंथी उग्रवाद (Left Wing Extremism)

भारत में नक्सलियों द्वारा वामपंथी उग्रवाद चलाया जाता है जो भारत की पिछले एक दशक से सबसे बढ़ी समस्या बनी हुई है. नक्सलियों ने भारत के कई हिस्सों में अपना अधिकार जमाया हुआ है और यह नक्सली साल में कई बार हमला करते हैं.यह नक्सली समाजिक और राजनितिक ताकतों में आने वाली अस्थिरता की वजह से वजूद में आये. इस उग्रवाद के चलते भारत कभी भी सुपर पॉवर बनने के बारे में सोच भी नहीं सकता.

3भ्रष्टाचार

भारत में भ्रष्टाचार बहुत बढ़ी समस्या है. जिसकी वजह से भारत में 2 जी, कैग जैसे घोटाले हुए. यह समस्या बहुत ही गंभीर है. जिसकी वजह से भारत में विदेशी निवेश बहुत कम है और जिससे दुनिया के विकसित देश यहां पर व्यपार चलाने का जोखिम नहीं लेते. इस समस्या से भारत में गरीब ओर गरीब और अमीर ओर अमीर होते जा रहे हैं.

4सार्वजनिक संस्थाओं का पतन

भारत की उच्च न्यायपालिका को छोड़कर भारत के विश्वविद्यालय, पुलिस विभाग, सिविल सेवाएं, न्यापालिकाएं तेजी से पतन की तरफ जा रहे हैं. यह विभाग लोगों को अच्छी सेवाएं देने से बुरी तरह से असफल रहे हैं.

5अमीर और गरीब में अंतर

भारत में अमीर और गरीब लोगों में खाई बढ़ती ही जा रही है, भारत में किसानों द्वारा की जाने वाली आत्महत्याओं ने ही पूरे देश का ध्यान यहां पर रहने वाले गरीबों की तरफ खींचा है. जिससे भारत में पिछले 10-15 वर्षों से गरीबों की स्थिति को सुधारने के प्रयास किये जा रहे हैं. भारत को अगर दुनिया में सुपर पॉवर बनना है तो सबसे पहले देश में गरीबी की समस्या को खत्म करना होगा. जिसको शायद कई दशक लग जायेंगे.

6पर्यावरणीय दुर्दशा

भारत के पर्यावरण में भी एक स्थानीय स्तर पर गिरावट हो रही है, इसमें से नदियों में रसायनिक प्रदूशन, भूमिगत जलवाही स्तर में भारी कमी और नदियों के पानी का सूखना मुख्य हैं. जिसने लोगों के जीवन को बहुत बुरी तरह से प्रभावित किया है. भारत को विकसित देश बनने से पहले इन कुदरती स्रोतों को बचाना होगा.

7मीडिया की उदासीनता

भारतीय मीडिया कई मुख्य मुद्दे जैसे की बढ़ती आय में असमानता और पर्यावरण की समस्याओं को कवर करने में बुरी तरह से असफल रही है.

8राजनितिक अराजकता

भारत में राजनितिक अराजकता भी मुख्य मुद्दा है जिसका मुख्य कारण यहां की केंद्र और राज्य की सरकारों के बीच गठबंधन की कमी है, जिसके परिणामस्वरूप लोगों के लिए लंबे समय की अच्छी स्वास्थ्य, शिक्षा आदि नीतियाँ बनाने में बहुत मुश्किलें आती है.

9अस्थिर पढ़ोसी

भारत के लंबे समय से अपने पड़ोसी देश चीन और पाकिस्तान से सीमा को लेकर मतभेद दिन पर दिन बढ़ रहे हैं. जिसकी वजह से भारत की सरकार को सीमा रक्षा बजट भी बढ़ाना पड़ता है और ज्यादातर धन लोगों की भलाई में ना लगकर रक्षा बजट में लग जाता है.

10सीमा विवाद

भारत में आजादी के 68 साल बाद भी अनसुलझे सीमा विवाद हैं. इन विवादों में मुख्य कश्मीर और भारत के उत्तर पूर्वी (नागालैंड और मणिपुर) हिस्से हैं. जो भारत का हिस्सा नहीं बनना चाहते और इन हिस्सों में आतंकवाद भी सबसे ज्यादा है.

Comments