10 विनाशकारी भूकंप जिनमें काफी नुक्सान हुआ

भारत, पाकिस्तान, अफगानिस्तान में रविवार को आए भूकंप से अफरातफरी मच गई। हालांकि किसी बड़े नुकसान की कोई खबर नहीं आई। बताते हैं कि भूकंप का केंद्र अफगानिस्तान का हिन्दूकुश था। आइए एक नजर डाले ऐसे 10 बड़े भूकंप पर, जिनमें जान-माल का भारी नुकसान हुआ।

31 जनवरी,1906 – इक्वाडोर में 8.8 की तीव्रता से भूकंप आया। इससे वहां सुनामी आ गई। इस प्राकृतिक आपदा ने यहां कम से कम 500 लोगों को मौत की नींद सुला दिया।
earthquake
11 नवंबर, 1922- यहां पर भूकंप इतना तेज था कि चिली का तट ही तबाह हो गया। चिली-अर्जेंटीना सीमा पर आए इस भूकंप की तीव्रता 8.5 रही।
15 अगस्त, 1950- तिब्बत में भूकंप से 780 लोगों की जान चली गई।
22 मई, 1960– इस दिन दक्षिण चिली में 9.5 की तीव्रता से भूकंप आया। करीब पौने दो हजार लोगों की मौत हुई।
28 मार्च, 1964– अलास्का के प्रिंस विलियम साउंड में भूकंप से 131 लोग मरे। भूकंप की तीव्रता 9.2 रही।
26 दिसंबर, 2004- इंडोनेशिया में भूकंप से  हिन्‍द महासागर में जल प्रलय सुनामी आ गई। इससे कई देशों में दो लाख 30 हजार लोगों की जिंदगी चली गई।
28 मार्च, 2005- उत्तरी सुमात्रा में 8.5 की तीव्रता से भूकंप आया। यहां 1300 लोग अपनी जान गंवा बैठे।
27 फरवरी, 2010- चिली में भूकंप में 524 लोगों की मौत हो गई।
11 मार्च 2011- पूर्वोत्तर तट (जापान) में  9.0 की तीव्रता से भूकंप आया। 18000 से अधिक लोगों की जिंदगी चली गई।
25 अप्रैल, 2015- 7.8 की तीव्रता से भूकंप आया और नेपाल में तबाही मच गई। 8857 लोगों की मौत हुई। यहां पर इमारतों को काफी नुकसान पहुंचा।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? भारत मैट्रीमोनी डॉट कॉम में निःशुल्क रजिस्टर करें!

Comments